दो हजार रुपए का दो साल से एक भी नया नोट नहीं छपा, जानिए क्या है वजह

1 min read

पिछले दो सालों में 2 हजार रुपए (2000 rupees note) के एक भी नोट की छपाई नहीं हुई है। यह सच है। वह भी तब, जबकि इसकी संख्या में कमी आ गई है।

खुद सरकार की ओर से दो साल से दो हजार रुपए के नोट (2000 rupees note)  की छपाई न होने संबंधी जानकारी लोकसभा (loksabha) में दी गई है।

आपको बता दें कि केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (anurag thakur) ने सोमवार को संसद (parliament) में इस बाबत बताया।

उन्होंने एक लिखित जवाब (written answer) में बताया कि 30 मार्च, 2018 को 2000 रुपए के 336.2 करोड़ नोट सर्कुलेशन (circulation) में थे, जबकि 26 फरवरी, 2021 को इनकी संख्या घटकर 249.9 करोड़ रह गई।

वित्त राज्य मंत्री ने अपने लिखित जवाब में कहा कि, ”किसी मूल्य के बैंक नोटों की छपाई का फैसला जनता की लेन-देन की मांग को पूरा करने के लिए रिजर्व बैंक आफ इंडिया यानी आरबीआई (RBI) की सलाह पर ही लिया जाता है।”

उन्होंने कहा कि, ”2019-20 और 2020-21 में 2000 रुपए के नोट की छपाई का ऑर्डर नहीं दिया गया है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने 2019 में बताया था कि वित्त वर्ष 2016-17 (अप्रैल, 2016 से मार्च, 2017 तक) की अवधि में 354.2991 करोड़ नोटों की छपाई की गई थी।

हालांकि, 2017-18 में केवल 11.1507 करोड़ नोटों की छपाई की गई। 2018-19 में 4.669 करोड़ नोट छापे गए। जबकि इसके बाद  अप्रैल, 2019 के बाद से तो एक भी नोट की छपाई नहीं की गई है।

जैसा कि पहले भी माना जा रहा था, अब भी यही बताया जा रहा है कि यह फैसला कालेधन (black money) पर रोक लगाने के लिए ऐसा किया गया है।

आपको बता दें कि नवंबर 2016 में 500 और 1000 रुपए के नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया था और इसके बाद सरकार ने 500 रुपए के नए नोट और 2 हजार रुपए के नोट को जारी किया था।

यह भी पढ़ें-

http://khaskhabar24.com/cm-tirath-singh-made-a-comparison-of-pm-modi-with-lord-ram/

2000 रुपए के नोट के अलावा केंद्र सरकार ने 10, 20, 50 और 100 रुपए के नए नोट भी जारी किए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *